Khaab ©

​तुम बे-हद रहना ; हदों में तो कुछ यूँ ; मेरे दुश्मन भी रहते है | तुम बे-ख़ौफ़ रहना ; … Continue reading Khaab ©

Fir hua ↩

​मैं मेरे भगवान् का भी हुआ ; ऐ मौला मैं तेरा भी हुआ ; तुम सब मशरूफ किसी और में … Continue reading Fir hua ↩