The MILLIONAIRE {हिंदी} #1

September 27, 09:10 pm Mughalpura police station ; Lahore Pakistan "बता दे जो पूछ रहे है...वरना अंजाम से तो वाकिफ होगा तू"...थानेदार निज़ाम अली ने रसोइये के मुँह को अपने मोटे हाथो से दबा कर गुस्से में पूछा । "साहब ! उतना ही जानता हूं मैं भी , जितना आप और ये पूरा मुल्क जानता... Continue Reading →

Advertisements

Emergency {short Story}

Government medical college , aurangabad Day#4 regional singing and dancing compitition. Annual function {harmony} तांडव करते महादेव ; रंगमंच के किनारे नंदी बना एक छात्र दंडवत प्रणाम किये पिछले 2 मिनट से यूही बैठा हुआ ; दर्शको का प्रोत्शाहित करने वाला शोर ; माहौल में हल्की हल्की महक गांजे की भी थी ; जिसे गंजेड़ी महादेवजी... Continue Reading →

बेइंतहां…

मैं तेरे ख्वाबो में रहू ; तेरी नींदे खुल जाने के भी बाद ! बिखरने लगू ; तेरी ज़ुल्फ़ों के संग , तेरी रातो से कहने लगू , सुबह ना हो , बस राते हो , इस रात के बाद ! मैं तेरे होठो पर रहू ; तेरे आंसू पोंछ लेने के भी बाद !... Continue Reading →

Bus Stand 【 khaamoshi 】

कभी देखा है बस स्टैंड ; नहीं ; नहीं देखा होगा मेरी नज़र से ; मैं दिखाऊंगा ; तुम पढ़ना ; की बस स्टैंड क्या होता है  और कौन कौन होता है जो वो शहर छोड़ता है और कौन उस शहर में नया है ! ------------------------ This Diwali In Compitition With The Millionaire Written by Kuldeep choudhary... Continue Reading →

आफत 🌘

ऐ खुदा ; आज फिर से लिख दु तो आफत है ; आंसू समेटने आते उसको नहीं ; और लब्ज रुकेंगे मेरे भी नहीं ! आज अगर ना निकला चाँद तो आफत है ; नींद मुझे आती नहीं ; और खवाबो के अलावा वो मिलती कही और नहीं ! माना स्याही बची है कम इश्क़... Continue Reading →

The Last Words 🗳

तेरी यादो से निकला वो आखिरी लब्ज लिख रहा हूं ; बैठा यहाँ , ना जाने कहा वो अधूरा चाँद देख रहा हूं ।           कभी पूरा न होगा ,           किस्सा जो खुदा ने लिखा होगा ;           बस इसी कहानी का... Continue Reading →

चाहत !

दे तू  चन्द  लब्ज मुझे  , तारीफ में तेरी , कुछ कहना चाहता हूं  ! दे तू चन्द सपने मुझे , खातिर तेरी हक़ीक़त बून'ना चाहता हूं ! न बोल होठ से हलके बोल मुझे , जागीर मेरी , तेरी आँखों से , पढ़ना चाहता हूं !  कुदरत से क्या तोंलू ऐ हुस्न तुझे , किस्से... Continue Reading →

अलविदा |

ले कर सारी पुरानी तस्वीरो का बोझ वो जा रही है ; तो जाने दो उसे ; वफा के बाजार मे खडे , बेवफा लोगो से , सौदे मोहब्बत के किये नही जाते | वो चाहे अगर महंदी भरे हाथो से गले लगाना मुझे ; तो जाकर कह दो उसे ; साहिल पर खडे होकर... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: