Bin raaja ke ek kahani !

​                        कैसी ये कहानी है ;

                      बिन राजा के रानी है !

                      उतरे जब ख्वाबो से ,

                  बिन बारिशो के ही पानी है !

   

                 ख़त्म उसके नाम पे जवानी है ;

                   खातिर उसके ज़िन्दगानी है !

               निकले सफर पर खातिर तेरे जब ;

             ना मिले गर तू , ज़िन्दगी ये गवानी है !


                       कैसी ये कहानी है ;

                     बिन राजा के रानी है !

                   अधूरी नींदे कितनी सारी ;

                   अकेले सो कर बितानी है ;


            हर शख्श के होठो पर अपनी कहानी है ;

                 जाने कितनी बाते छिपानी है !

             कैसे जी गया ये वक़्त अपने दरमियां ;

           मिल के बिखरे दिल की दास्ताँ सुनानी है ।

  ____-__-______-_____-______-_                

                       द इनसाइडर ©

                       कुलदीप चौधरी 

Advertisements

11 thoughts on “Bin raaja ke ek kahani !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s