अलविदा ।

​खामोश लबो के बीच थरथराते है लब्ज मेरे ;

किस्से अधूरी मोहब्बत के अब मुझसे सुनाये नहीं जाते !


टकराने दो ज़मीन से आसमां से बरसती इन बूंदों को ,

याद है मुझे यादो के जलते अंगारे , आंसुओ से बुझाये नहीं जाते !


झुका कर पलके जा रही है तो जाने दो उसे ,

भीगी हुई पलकों पर काजल सजाये नहीं जाते !


सज गयी है उसके हाथों में मेहँदी , तो रंग लाने दो उसे ,

खुरच कर लकीरो को , फैसले किस्मत के बदले नहीं जाते !


उम्मीदों की चादर भी ले आया दरगाह से मैं फिर ,

भूल गया था , फ़रिश्ते दुआओ में खुदा से मांगे नहीं जाते !


जो टुटा हूँ इस बार जाकर कह दो उसे ;

ले जाये अपनी मोहब्बत के खोटे सिक्के ;

अब ये सिक्के मेरे शहर में चलाए नहीं जाते !


_________________________


Written by

Kuldeep choudhary

The Insider©

Advertisements

4 thoughts on “अलविदा ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s