आफत 🌘

ऐ खुदा ; आज फिर से लिख दु तो आफत है ;

आंसू समेटने आते उसको नहीं ;

और लब्ज रुकेंगे मेरे भी नहीं !


आज अगर ना निकला चाँद तो आफत है ;

नींद मुझे आती नहीं ;

और खवाबो के अलावा वो मिलती कही और नहीं !


माना स्याही बची है कम इश्क़ की ;

हाथ वो मुझे अपना देती नहीं ;

और नसीब मैं पत्थरो पर लिखता नहीं !


__________________________


Written by

Kuldeep choudhary

The Insider©

All Rights Reserved®


Advertisements

13 thoughts on “आफत 🌘

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s