लकीरें …✍

ना जाना कभी छोड़ के ;

आदत बन चूका है तू मेरी !


है हाथो में हाथ तेरा ;

तेरे हाथो में ज़िन्दगी की लकीरे मेरी !


आसमां में बिखरी उस चांदनी को क्या देखु ;

तेरी नज़रो से रोशन है इश्क़ की बस्ती मेरी !


खुदा ने ढूंढ लिए वो इशारे सारे ;

क़ातिल जो लगी , वो है नज़रे तेरी !


दिल पर लिखी तेरी हर दुआ को ;

जब लब्जो में पिरोया , तो धुन थी तेरी !


कुछ नहीं है नया सिर्फ तेरे सिवा ;

फिर क्यों सुनना चाहे तू बाते मेरी !


अरे गेली ‘ तेरी मोहब्बत का करम इतना मुझपे ;

के रहे तेरे आगे हर वक़्त मोहब्बत बे’जुबां मेरी !


कहे जब तू , मांगना खुदा से दोनों के वास्ते ;

तब तब झुका कर सिर , मांगी है खुशिया तेरी !


इस कहानी के साथ लिख दिया होगा , खुदा ने ;

जुदाई का दिन भी किस्मत में मेरी ;


उस दिन भी मुस्कुराहटे होंठ हो तेरे ;

और ;  रोती हुई आँखे हो मेरी !


#################
Written by

The Insider©

All Rights Reserved

Thank you for reading लकीरें … !💐!

Advertisements

17 thoughts on “लकीरें …✍

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s